Brahma Kumari Shivani Biography in Hindi. ब्रह्माकुमारी शिवानी  का जीवन परिचय |

Brahma Kumari Shivani Biography in Hindi . ब्रह्माकुमारी शिवानी  का जीवन परिचय | रहने का तरीका, प्रेमिका, उम्र, ऊंचाई, जाति, परिवार, धर्म, पसन्द, माता- पिता परिचय, आदि जानकारी

ब्रह्माकुमारी शिवानी  का जन्म 31 मई 1972  को मुंबई, महाराष्ट्र, में हुआ था। . एक हिंदू परिवार से हैं| .बीके शिवानी के माता-पिता बहुत पहले से ही ब्रह्माकुमारी संगठन से जुड़े थे। बचपन से ही शिवानी दीदी एक ऐसे माहौल में पली बड़ी जहां पूर्ण रूप से अध्यात्मिक वातावरण था। 

ब्रम्हाकुमारी जिसका अर्थ होता है, ब्रह्मा की बेटियां। यह एक ऐसा आंदोलन है, जिसे वर्ष 1930 में लेखराज कृपलानी जी के द्वारा स्थापना किया गया था।  ब्रह्मकुमारी संगठन से जुड़ने के पहले शिवानी एक साधारण लड़की थीं, जिन्हें अध्यात्म में जरा भी रुचि नहीं थी। 

 पुणे यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में स्नातक की पढाई पूरी की.  उसके बाद दो साल तक वह भारती विद्यापीठ इंजीनियरिंग कॉलेज में लेक्चरर के पद पर रहीं.

टीवी सीरिज हिंदी और अंगेजी भाषा में है,

  • राजयोग मेडिटेशन
  • डिप्रेसन
  • विजडम ऑफ़ दादी जानकी
  • इनर ब्युटी
  • लाइफ स्किल्स
  • विजडम ऑफ़ दादी जानकी

Brahma Kumari Shivani Biography in Hindi.    का जीवन परिचय | महत्वपूर्ण जानकारी

असल नाम (Real Name)- ब्रह्माकुमारी शिवानी, निक नेम -शिवानी, उम्र – 50( साल (2022 तक) , पेशा – लेखिका , अध्यात्मिक शिक्षिका जन्म स्थान – मुंबई, महाराष्ट्र, ,नागरिकता – भारतीय, गृह नगर – मुंबई, महाराष्ट्र, , स्कूल –ज्ञात नहीं. कॉलेज – पुणे यूनिवर्सिटी से इलेक्ट्रिकल।, शैक्षणिक योग्यता –  ग्रेजुएट, वैवाहिक स्थिति – विवाहित , पति – विशाल वर्मा.धर्म – हिंदू , पता – मुंबई, महाराष्ट्र, भारत रुचि – मूवीज देखना ,यात्रा करना

ऊँचाई (Height5″05 फीट
वजन (Weight)55 किग्रा
आँखों का रंग ( Eye Colour)गहरा भूरा
बालों का रंग (Hair Colour)काला

शिवानी 2008 में पहली बार ‘अवेकिंग विद ब्रह्मा कुमारीज’ नामक एक टीवी चैनल कार्यक्रम चलाया गया था, जो आज तक लोगों द्वारा बहुत पसंद किया जाता है। मेडिटेशन, लाइफ स्किल्स, इनर ब्यूटी और डिप्रेशन जैसे कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों पर ब्रह्माकुमारी शिवानी कई टीवी चैनलों पर लोगों को शिक्षा देती हैं।

ब्रम्हाकुमारी संगठन में जुड़ने से पहले बीके शिवानी आत्मा और अध्यात्म में बिल्कुल भी विश्वास नहीं करती थी, लेकिन जब से उन्होंने निरंतर संगठन के रोजमर्रा ध्यान और साधना करना प्रारंभ किया तब उनके जीवन में एक बड़ा बदलाव आया। इसे महसूस करते हुए वे पूर्ण रूप से 1995 में ब्रह्माकुमारी संस्था के लिए समर्पित हो गई।

ब्रम्हाकुमारी संगठन में जुड़ने से पहले बीके शिवानी आत्मा और अध्यात्म में बिल्कुल भी विश्वास नहीं करती थी, लेकिन जब से उन्होंने निरंतर संगठन के रोजमर्रा ध्यान और साधना करना प्रारंभ किया तब उनके जीवन में एक बड़ा बदलाव आया। इसे महसूस करते हुए वे पूर्ण रूप से 1995 में ब्रह्माकुमारी संस्था के लिए समर्पित हो गई।

ब्रम्हाकुमारी शिवानी बारे में रोचक तथ्य

  • अध्यात्म को समान्य जीवन में भी उतारा जा सकता है। शादीशुदा होने के बावजूद भी शिवानी दीदी पूर्ण रूप से ब्रम्हचर्य का पालन करती हैं।
  • ब्रह्माकुमारी संस्था का लक्ष्य महिला सशक्तिकरण से भिन्न नहीं है।
  •  शिवानी दीदी एक अच्छी लेखिका भी हैं, जिन्होंने कई पुस्तकें लिखी है,
  • जो पूरी दुनिया में लोगों द्वारा खूब पसंद किए जाते हैं।
  • इन्हें वीमेन ऑफ़ द डिकेड अचीवर अवार्ड से सम्मानित किया गया

Leave a Reply

Your email address will not be published.