Draupadi Murmu Biography in Hindi. द्रौपदी मुर्मू  का जीवन परिचय | 

Draupadi Murmu Biography in Hindi. द्रौपदी मुर्मू  का जीवन परिचय |  ,रहने का तरीका, प्रेमिका, उम्र, ऊंचाई, जाति, परिवार, धर्म, पसन्द, माता- पिता परिचय, आदि जानकारी

द्रौपदी मुर्मू  का जन्म 20 जून 1958 मयूरभंज, उड़ीसा, भारत में हुआ था . एक हिंदू परिवार से हैं| उनके पिता का नाम -बिरांची नारायण टुडू ,

द्रौपदी मुर्मू की शादी श्याम चरण मुर्मू के साथ हुई थी, जिनसे इन्हे संतान के तौर पर 3 बच्चे प्राप्त हुए थे, जिनमें दो बेटे थे और एक बेटी थी। हालांकि इनका व्यक्तिगत जीवन ज्यादा सुखमय नहीं था, क्योंकि इनके पति और इनके दोनों बेटे अब इस दुनिया में नहीं है। इनकी बेटी ही अब जिंदा है जिसका नाम इतिश्री है, जिसकी शादी द्रौपदी मुर्मू ने गणेश हेम्ब्रम के साथ की है।

द्रौपदी मुर्मू  ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा गांव के ही स्कूल से की है इसके पश्चात ग्रेजुएशन की पढ़ाई करने के लिए यह भुवनेश्वर शहर के रामा देवी महिला कॉलेज से ही इन्होंने ग्रेजुएशन की पढ़ाई की। ओडिशा गवर्नमेंट में बिजली डिपार्टमेंट में जूनियर असिस्टेंट के तौर पर इन्हें नौकरी प्राप्त हुई। इन्होंने यह नौकरी साल 1979 -1983 तक की। इसके बाद इन्होंने साल 1994 -1997 तक रायरंगपुर में मौजूद अरबिंदो इंटीग्रल एजुकेशन सेंटर में टीचर के तौर पर काम किया।

यह एक आदिवासी समुदाय से है और एनडीए के द्वारा इन्हें भारत के अगले राष्ट्रपति के उम्मीदवार के तौर पर प्रस्तुत किया गया था और यही वजह है कि आजकल इंटरनेट पर द्रोपति मुर्मू की काफी चर्चा हो रही है।

द्रौपदी मुर्मू को 25 जुलाई 2022 को भारत की 15 वी राष्ट्रपति बनी है .वह भारत की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति भी है , जो भारत देश की साथ ही यह दूसरी ऐसी महिला है , जो भारत देश के राष्ट्रपति के पद को संभालेंगी। इसके पहले भारत देश के राष्ट्रपति के पद पर महिला के तौर पर प्रतिभा पाटिल विराजमान हो चुकी है।

राजनीतिक जीवन

  • उड़ीसा गवर्नमेंट में राज्य मंत्री स्वतंत्र प्रभार के तौर पर द्रौपदी मुर्मू को साल 2000 से लेकर के साल 2004 तक ट्रांसपोर्ट और वाणिज्य डिपार्टमेंट संभालने का मौका मिला।
  • इन्होंने साल 2002 से लेकर के साल 2004 तक उड़ीसा गवर्नमेंट के राज्य मंत्री के तौर पर पशुपालन और मत्स्य पालन डिपार्टमेंट को भी संभाला।
  • साल 2002 से लेकर के साल 2009 तक यह भारतीय जनता पार्टी के अनुसूचित जाति मोर्चा के राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मेंबर भी रही।
  • भारतीय जनता पार्टी के एसटी मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष के पद को इन्होंने साल 2006 से लेकर के साल 2009 तक संभाला।
  • एसटी मोर्चा के साथ ही साथ भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के मेंबर के पद पर यह साल 2013 से लेकर के साल 2015 तक रही
  • झारखंड के राज्यपाल के पद को उन्होंने साल 2015 में प्राप्त किया और यह इस पद पर साल 2021 तक विराजमान रही।

साल 1997 को ओडिशा के रायरंगपुर जिले से पहली बार इन्हें जिला पार्षद चुना गया, साथ ही यह रायरंगपुर की उपाध्यक्ष भी बनी। इसके अलावा इन्हें साल 2002 -2009 तक मयूरभंज जिला भाजपा का अध्यक्ष बनने का मौका भी मिला। साल 2004 में यह रायरंगपुर विधानसभा से विधायक बनने में भी कामयाब हुई और आगे बढ़ते बढ़ते साल 2015 में इन्हें झारखंड जैसे आदिवासी बहुल राज्य के राज्यपाल के पद को संभालने का भी मौका मिला।

द्रौपदी मुर्मू 25 जुलाई 2022 को भारत की 15 वी राष्ट्रपति बनी है .वह भारत की पहली आदिवासी महिला राष्ट्रपति भी है , जो भारत देश की साथ ही यह दूसरी ऐसी महिला है , जो भारत देश के राष्ट्रपति के पद को संभालेंगी। इसके पहले भारत देश के राष्ट्रपति के पद पर महिला के तौर पर प्रतिभा पाटिल विराजमान हो चुकी है।

Draupadi Murmu Biography in Hindi. द्रौपदी मुर्मू  का जीवन परिचय | महत्वपूर्ण जानकारी

असल नाम (Real Name)-द्रौपदी मुर्मू   निक नेम –  जैस्मिन , उम्र – 32( साल (2022 तक) , पेशा – राजनीतिज्ञ, पार्टी – भारतीय जनता पार्टी भारतीय जनता पार्टी से जुड़ी – 1997, जन्म स्थान – हल्द्वानी, उत्तराखंड, नागरिकता – भारतीय , गृह नगर – मुंबई, महाराष्ट्र, भारत, स्कूल –होली हार्ट प्रेसीडेंसी स्कूल, अमृतसर . कॉलेज नाम – SNDT विमेंस यूनिवर्सिटी, मुंबई ,शैक्षणिक योग्यता – कॉलेज ड्रॉपआउट , वैवाहिक स्थिति – विवाहित , पति – श्याम चरण मुर्मू पदार्पण- धर्म – हिंदू, जाति- अनुसूचित जनजाति , पता – मुम्बई महाराष्ट्र, रुचि – फिल्में देखना, खरीदारी करना, उपन्यास पढ़ना, सम्पति – 10 लाख

शारीरिक जानकारी

ऊँचाई (Height)5’04″ फीट
वजन (Weight)74 किग्रा
आँखों का रंग ( Eye Colour)काला
बालों का रंग (Hair Colour)काला

द्रौपदी मुर्मू  से जुड़े रोचक तथ्य

  • द्रौपदी मुर्मू  का जन्म और पालन पोषण  नई दिल्ली, भारत में हुआ था.
  • मुर्मू को भारत सरकार के द्वारा Z+ सुरक्षा प्राप्त है.
  • झारखंड राज्य के बनने के पश्चात 5 साल का कार्यकाल पूरा करने वाली द्रोपदी मुर्मू पहली महिला राज्यपाल है।
  • द्रौपदी मुरमू को नीलकंठ पुरस्कार सर्वश्रेष्ठ विधायक के लिए साल 2007 में प्राप्त हुआ था। यह पुरस्कार इन्हें ओडिशा विधानसभा के द्वारा किया गया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.