Swami Swaroopanand Saraswati Biography in Hindi . शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का जीवन परिचय

Swami Swaroopanand Saraswat Biography in Hindi . शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती का जीवन परिचय | रहने का तरीका, प्रेमिका, उम्र, ऊंचाई, जाति, परिवार, धर्म, पसन्द, माता- पिता परिचय, आदि जानकारी

 शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती सरकार का जन्म 4 जुलाई 1996 को ,सिवनी जिले के दिघोरी गांव मध्य प्रदेश में हुआ था। . एक हिंदू परिवार से हैं| पिता का नाम श्री राम कृपाल गर्ग और माता का नाम सरोज गर्ग है

जिसके बाद वो काशी पहुंचे यहां से उन्होंने ब्रह्मालीन श्री स्वामी करपात्री महाराज वेद-विदांग शास्त्रों की शिक्षा प्राप्त की। जिसके बाद 1950 में ज्योतिष्पीठ के शंकराचार्य स्वामी ब्रह्मानंद सरस्वती से दण्ड-सन्यास की दीक्षा ली। 

आदिगुरु भगवान शंकराचार्य ने 1300 वर्ष पूर्व भारत के चारों दिशाओं में चार धार्मिक राजधानियां (गोवर्धन मठ, श्रृंगेरी मठ, द्वारका मठ एवं ज्योतिर्मठ) मठ स्थापित किये।

शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती का स्वतंत्रता संग्राम में अहम योगदान
वो भी उन स्वतंत्रता संग्रामी में से एक थे। साल 1942 में उन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ भारत छोड़ो आंदोलन शुरू किया था। उस समय केवल 19 साल के थे। इस दौरान उन्होंने काशी हिंदू विश्वविधालय के सत्याग्रही छात्रों के साथ रक्षार्थ योजना बनाकर अभियोग चलायाथा । जिसके बाद उन्होंने मध्य प्रदेश में 6 महीने जेल की सजा काटी।

शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती की मृत्यृ 11 सितंबर 2022 को मध्य प्रदेश में हुई।

Biography in Hindi.शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती  का जीवन परिचय | महत्वपूर्ण जानकारी

असल नाम (Real Name)-  शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती, निक नेम – धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री ,आयु – साल (2022 तक) , पेशा – अंतरराष्ट्रीय कथावाचक जन्म स्थान -,नागरिकता – भारतीय, गृह नगर -ग्राम गढ़ा ,छतरपुर, मध्य प्रदेश, स्कूल –12वी, गढ़ा ,छतरपुर, मध्य प्रदेश, शैक्षणिक योग्यता – , वैवाहिक स्थिति – अविवाहित , .धर्म – हिंदू , पतारुचि – भक्ति ,धार्मिक पुस्तकों का अध्ययन करना

ऊँचाई (Height5″05 फीट
वजन (Weight)80 किग्रा
आँखों का रंग ( Eye Colour)गहरा भूरा
बालों का रंग (Hair Colour)काला

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती बारे में रोचक तथ्य

  • शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती जी ने सांई बाबा की पूजा का हमेशा विरोध किया है। उनका कहना था कि, इसके जरिए हिंदू दिशाहीन रहे हैं।
  • शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती के अनुसार इस्कॉन भारत में आकर कृष्ण भक्ति के रूप में धर्म परिवर्तन और पैसे हासिल कर रहा है। ये सब अंग्रेजो की कूटनीति का हिस्सा है।
  • उन्होंने कांग्रेस पर भी जबरदस्ती धर्म परिवर्तन करने का आरोप लगाया है। उनके मुताबिक लगाताक हिंदूओं की आबादी घटती जा रही है।
  • राम मंदिर को लेकर एक बड़ा बयान दिया था। जिसमें उन्होंने कहा था कि, राम मंदिर को महापुरूष मानने वाले लोग मंदिर नहीं बनाते।
  • नमामि गंगे प्रोजेक्ट को लेकर कहा था कि, केवल प्रोजेक्ट बनाने से कुछ नहीं होगा। इसपर काम भी करना होगा।
  • साल 2015 में उन्होंने आगरा के ताजमहल के नीचे शिवलिंग होने का दावा किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published.